हदीसे हफ़्ता

الإمام علی علیه السلام:

الاِسْتِشَارَةُ عَیْنُ الهِدایَةِ وَقَدْ خاطَرَ مَنِ اسْتَغنَى بِرَأْیِهِ‏.

نهج‏ البلاغه، الحکمة 211


हज़रत इमाम अली अलैहिस्सलाम फ़रमाते हैं


मशवरा करना हिदायत का रासता है और जो अपनी सोच काफी समझे उसने अपने आप को ख़तरे में डाल लिया है।




इस हिस्से में सभी शिया समाचार, शिया टीवी आदि मौजूद हैं।

अधिक

धार्मिक पुस्तकें, सॉफ्टवेयर, कैसेट और सीडी स्थलों और केन्द्र।

अधिक

यहाँ कुरान से इस्तेख़ारा देखने के तरीक़े बयान हुए हैं।

अधिक

मुक़ामाते मुक़द्दसा की आनलाइन ज़ियारत

अधिक